Friday, 27 September 2013

एक लय को थाम लिया



            मौसमों ने जब कभी इक नया ऐलान किया    
            अब ज़रूरी बहुत बदलाव हमने मान लिया  
       
            ज़िन्दगी ने इस तरह तय किया रिश्ता हमसे
            मुश्किलों ने सिखाया इम्तहां आसान किया
         
            रूह के साज़ पर यूँ ही नहीं बजती सरगम  
            सुर बिखरने से बचे एक लय को थाम लिया

            बारहा सूने किनारों तक उमड़तीं लहरें   
            वस्ल में हिज्र का ये राज़ हमने जान लिया

            सुर्ख होती आँख सैलाब भर बहते-बहते 
            ख़ास यह रहगुज़र है दर्द की पहचान लिया 

                    
                                                 कैलाशनीहारिका